• Sat. Jun 25th, 2022

डायबेटिक किडनी डिजीज – परिभाषा, प्रकार, लक्षण, जांच, इलाज और रिस्क फैक्टर – All About diabetic kidney disease in Hindi

डायबेटिक किडनी डिजीज क्या है – diabetic nephropathy meaning in hindi

किडनी हमारे शरीर के सबसे महत्वपूर्ण अंगों में से एक है। किडनी हमारे शरीर में खून से ख़तरनाक तत्वों तथा अधिक नमक तथा पानी को हटा कर उसे साफ रखता है। अगर किडनी किसी बीमारी से ग्रस्ति हो जाता है तो फिर किडनी सामान्य रुप से काम नही कर पाता है। इस स्तिथि में खून की सफाई नही हो पाती है। खून हमारे शरीर में अशुद्ध रूप में ही रह जाता है।

डायबेटिक किडनी डिजीज (डिकेडी) एक चिकित्सिय स्तिथि है जो की डायबिटीज (मधुमेह) से ग्रसित व्यक्ति को अपना अधिक शिकार बनाता है।

शरीर से कितनी मात्रा में एल्ब्युमिन मूत्र के द्वारा बाहर आ रहा है, इस आधार डायबेटिक किडनी डिजीज को दो भाग में बांटा गया है :

मैक्रोएल्ब्युमिनुरिया ( microalbuminuria in Hindi) – जब एक दिन में शरीर से मूत्र के द्वारा 30 एमजी से 300 एमजी की मात्रा में एल्ब्यूमिन बाहर आने लगता है तो इसे मैक्रोएल्ब्युमिनुरिया कहा जाता है। इसे नेफ्रोपैथी के नाम से भी जाना जाता है।

प्रोटीनुरिया ( proteinuria in Hindi )- जब शरीर से प्रतिदिन 300 एमजी से अधिक मात्रा में एल्ब्यूमिन मूत्र के साथ बाहर आने लगता है तो इसे प्रोटीनुरिया कहा जाता है। प्रोटीनुरिया को मैक्रोएल्ब्युमिनुरिया या ओवर्ट नेफ्रोपैथी कहा जाता है।

डायबेटिक किडनी डिजीज होने के कारण – cause of diabetic kidney disease in Hindi

निम्नलिखित स्तिथि में व्यक्त डायबेटिक किडनी डिजीज का शिकार हो सकता है :

• किडनी सामान्य रुप से काम करना बंद कर दे तथा मूत्र के साथ एल्ब्यूमिन शरीर से बाहर आने की स्तिथि में
• अनियंत्रित डायबिटीज के कारण
• हाई ब्लड प्रेशर के कारण

डायबेटिक किडनी डिजीज के लक्षण – diabetic kidney disease symptoms in Hindi

सामान्यतः इस बीमारी के शुरुआत में किसी प्रकार के लक्षण देखने को नही मिलते हैं। लेकिन जैसे जैसे जैसे किडनी की स्तिथि खराब होती है, इसके लक्षण देखने को मिलने लगते हूं। ईद स्तिथि में दिखने वाले लक्षण निम्नलिखित हैं :

• हांथ, पैर तथा चेहरे का फूल जाना
• तेज़ी से वजन बढ़ना
• सोने में दिक्कत होना
• कम भूख लगना
• मतली आना
• कमज़ोरी
• असामान्य रूप से नींद आना (अंतिम चक्र के किडनी की बीमारी में)
• खुजली (अंतिम चक्र के किडनी की बीमारी में)
• खून में मूत्र आना (विरले ही)
• खून में पोटेशियम की कमी होने के कारण हृदय गति में असामान्यता

डायबेटिक किडनी डिजीज होने का खतरा किसे अधिक है? – diabetic kidney disease risk factor in Hindi

कई ऐसी स्तिथि है, जिसे होने पर किसी व्यक्ति को डायबेटिक किडनी डिजीज होने की संभावना बढ़ जाती हैं। ये चीज़े निम्नलिखित हैं:

• अधिक वजन होना या मोटापे का शिकार होना
• ध्रूमपान
• पारिवारिक इतिहास
• लंबे समय तक ब्लड शुगर बढ़ा हुआ रहना
• डायबिटीज के कारण आंख की समस्या होने पर
• डायबिटीज के कारण नसों के क्षतिग्रस्त हो जाने से

डायबेटिक किडनी डिजीज का जांच – diabetic kidney disease diagnosis in Hindi

डायबेटिक किडनी डिजीज का पता लगाने के लिए निम्नलिखित जांच करवाने पड़ते हैं :

• मूत्र जांच (24 घण्टे के मूत्र को जमा करें, इसमें मूत्र तथा क्रिटनीन के अनुपात तथा एल्ब्युमिन तथा क्रिटनीन का अनुपात जांचें)
• खून जांच (खून जांच में ब्लड सुगर + बीयूएन + सीरम क्रिटनीन की जांच करें)
• यूएसजी

डायबेटिक किडनी डिजीज का इलाज – diabetic kidney disease treatment in Hindi

डायबेटिक किडनी डिजीज को रोकने तथा मधुमेह से से होने वाले अन्य रोगों से बचाव के लिए डॉक्टर आपको निम्नलिखित सुझाव दे सकता है :

• संतुलित जीवनशैली अपनाएं
• ब्लड शुगर के स्तर को हमेशा नियंत्रित रखें
• हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित रखें

डायबेटिक किडनी डिजीज को रोकने तथा इससे बचाव के लिए कुछ अन्य सुझाव भी दिए जा सकते हैं। जैसे :

• अगर आपको ध्रूमपान करने की आदत है, तो इसे तुरंत छोड़ दें।
• अगर आपका वजन अधिक है तो वज़न कम करें
• अपने स्वास्थ पर नज़र बनाए रखें। स्वास्थ में कुछ बदलाव महसूस होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

नोट- इस लेख में बताई गई जानकारियों को केवल जानकारी के तौर पर ही लें। इलाज संबंधित कोई भी फैसला डॉक्टर की सलाह पर ही लें।

धन्यवाद

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *