• Thu. Sep 22nd, 2022

पेरासिटामोल एक आमतौर से उपयोग किए जाने वाली दवाई है। हालांकि काफी लोगों को ये समझ नहीं आता है कि पेरासिटामोल क्या है। तथा पेरासिटामोल टैबलेट का उपयोग क्या है। तो चलिए आपको हम इस आर्टिकल में paracetamol hindi mein बताते हैं।

paracetamol hindi me jankari देने के अलावा हम ये भी बताऐंगे की पेरासिटामोल टैबलेट का उपयोग क्या है। तथा पेरासिटामोल खाने के नुकसान क्या हैं। इसके अलावा आपको पेरासिटामोल टेबलेट्स के साइड इफेक्ट्स तथा paracetamol use in hindi में बताएंगे।

पेरासिटामोल इन हिंदी – paracetamol hindi mein

सबसे पहले बात करते हैं कि पेरासिटामोल क्या होता है। तो बता दें कि पेरासिटामोल एक ऐसी दवा है जिसका उपयोग दर्द कम करने तथा बुखार कम करने में किया जाता है। यानी कि पेरासिटामोल एक Pain Reliever तथा Fever Reducer Medicine है। पेरासिटामोल जेनरिक नाम है। इस दवाई का असल नाम एसिटामिनोफेन (Acetaminophen) है।

पेरासिटामोल का उपयोग – Paracetamol Use in Hindi

चूंकि पेरासिटामोल एक दर्द निवारक तथा बुखार कम करने वाली दवाई है। इस लिए पेरासिटामोल का उपयोग कई तरह के दर्द कम करने तथा बुखार कम करने के लिए लिया जाता है। आमतौर से पेरासिटामोल का उपयोग सर दर्द, मांसपेशियों में दर्द, अर्थराइटिस के कारण होने वाले दर्द, पेट में होने वाले दर्द इत्यादि के लिए किया जाता है। इसके अलावा पेरासिटामोल के उपयोग सर्दी तथा बुखार लगने पर भी किया जाता है।

एक और ध्यान देने वाली बात यह है कि पेरासिटामोल का उपयोग अर्थराइटिस यानी गठिया के रोग में जरूर किया जाता है। लेकिन यह कुछ हद तक दर्द ही कम करता है। इसके अलावा इसका प्रभाव बहुत ज्यादा नहीं है। अर्थराइटिस में इन्फ्लेमेशन तथा स्वेलिंग को कम नहीं करता है।

इन बीमारियों के अलावा पेरासिटामोल का उपयोग डॉक्टर कई अन्य तरह की बीमारी में कर सकते हैं। यह एक ऐसी दवा है जिससे जिसका उपयोग दूसरी दवाओं के साथ भी मिलाकर किया जाता है। ऐसे में पेरासिटामोल का डोज़ बदलकर कई अलग-अलग बीमारियों का इलाज किया जाता है।

पेरासिटामोल का उपयोग कैसे करें – How to Use Paracetamol in Hindi

पेरासिटामोल टेबलेट फॉर्म में आता है। इसलिए इसे मुंह के द्वारा निगलना होता है। ध्यान दे की खाने के समय इस टेबलेट को सीधा निगल जाएं। अगर आप इसे चबाते हैं या मुंह में ही रखे रहते हैं तो इसका प्रभाव खत्म हो सकता है। इसलिए डॉक्टर द्वारा बताए अनुसार ही इसका सेवन करें।

ध्यान दें कि यह एक ऐसी दवा है जिसका उपयोग बहुत ज्यादा मात्रा में करने से गंभीर परिणाम हो सकते हैं। इसलिए हमेशा केवल उसने ही मात्रा में इसका सेवन करें जितना कि डॉक्टर ने बताया है तथा बिना डॉक्टर की सलाह के दवा का सेवन ना करें। अन्यथा पेरासिटामोल खाने के नुकसान आपको हो सकते हैं।

इस दवा से जुड़ी एक और अहम बात यह है कि यह ज्यादातर शुरुआती दर्द में ही असरकारक साबित होता है। जैसे कि आपको सर दर्द शुरू हुआ है तथा शुरुआती चरण में ही इस दवाई को ले लेते हैं तो इसका फायदा काफी ज्यादा देखने को मिलता है। तथा आपको सर दर्द नहीं होगा। लेकिन आपका सर दर्द बहुत ज्यादा बढ़ चुका है तब आप इस दवाई का सेवन करते हैं तो संभव है कि पेरासिटामोल का प्रभाव थोड़ी देर से देखने को मिलेगा या थोड़ा कम मिल सकता है।

पैरासिटामोल के साइड इफेक्ट्स – Paracetamol Side effects in Hindi

Paracetamol Ka Side Effects आमतौर से देखने को नहीं मिलते हैं। इसकी गिनती ज्यादातर सुरक्षित दवा में ही की जाती है। लेकिन अन्य दवाओं की तरह यह दवा भी कुछ मरीजों में नकारात्मक प्रभाव दिखा सकती हैं तथा पेरासिटामोल खाने के नुकसान का सामना करना पड़ सकता है।

ऐसे में पेरासिटामोल का सेवन करने से अगर कुछ भी असामान्य दिखाई देता है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

परासीटामोल के संभावित साइड इफेक्ट्स निम्नलिखित है – paracetamol side effects hindi

• मल का रंग काला या खून के रंग का हो सकता है।
• मूत्र का रंग भी खून के रंग का यह थोड़ा धुंधलापन की तरह हो सकता है
• कुछ मरीजों को पेरासिटामोल का उपयोग करने के बाद हल्का बुखार महसूस हो सकता है।
• कभी-कभी बुखार के साथ ठंड भी लग सकती है।
• कुछ मरीजों को बैक पेन तथा शरीर के एक साइड में हल्का दर्द महसूस हो सकता है।
• त्वचा पर छोटे-छोटे लाल स्पॉट्स देखने को मिल सकते हैं।

इन paracetamol side effects के अलावा इसके कई और साइड इफेक्ट से जिसे यहां नहीं लिखा गया है। क्योंकि इसके साइड इफेक्ट्स, इसके साथ लिए जाने वाले अन्य दवाओं के साथ बदल भी सकता है। इसलिए अगर आप इस पेरासिटामोल का इस्तेमाल कर रहे हैं तथा कुछ भी असामान्य महसूस होता है तो बिना देर किए तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

पैरासिटामोल का ओवरडोज – symptoms of Paracetamol Overdose

अगर किसी मरीज को पेरासिटामोल दिया जाता है तो उसे सख्त हिदायत दी जाती है कि इस दवाई का उपयोग केवल उतनी ही मात्रा में करें जितना कि डॉक्टर ने सलाह दी है। क्योंकि अगर आप डोज़ से ज्यादा इस दवाई का सेवन कर लेते हैं तो इसके खतरनाक प्रभाव आपको देखने को मिल सकते हैं।

पेरासिटामोल का ओवरडोज होने पर आपको निम्नलिखित चीजें दिख सकती हैं –

• पेट खराब हो सकता है।
• बहुत ज्यादा पसीना आ सकता है।
• भूख लगने कम हो सकता है।
• चक्कर तथा उल्टी आ सकती है।
• पेट दर्द हो सकता है तथा पेट में मोच के साथ भी दर्द हो सकता है।
• पेट के ऊपरी हिस्से में सूजन दर्द तथा टेंडर्नेस देखने को मिल सकता है।

अगर आपने गलती से कुछ ज्यादा मात्रा में इस दवाई का सेवन कर लिया है तो तुरंत अपने डॉक्टर को सूचित करें।

पेरासिटामोल से जुड़ी सावधानियां – Paracetamol precaution

जब भी आप किसी डॉक्टर के पास जाएं हैं तो अगर आप पहले से किसी भी दवा का सेवन कर रहे हैं तो इस बारे में डॉक्टर को अवश्य सूचित करें। क्योंकि उन दवाओं को देखते हुए ही कोई भी डॉक्टर डोज़ सेट करते हैं।

अगर आपको इस दवाई को लेने से एलर्जी है तो पहले ही डॉक्टर को इस बारे में सूचित कर दें। इसके अलावा भी किसी और चीज से आपको एलर्जी है तो उस बारे में भी डॉक्टर को अवश्य बता दें। इसके अलावा अगर आप सामान्य बुखार या सर दर्द के लिए दवाई का उपयोग कर रहे हैं या आपको लिवर से जुड़ी बीमारी है, तो अपनी मर्जी से दवाई का सेवन ना करें। डॉक्टर से सलाह करने के बाद ही किसी भी दवाई का सेवन करें

Paracetamol ka dose – Paracetamol dose in Hindi

पेरासिटामोल कर डोज़ उसकी उम्र के आधार पर तय होता है। 12 साल या इससे अधिक उम्र वाले मरीज के लिए 4 से 6 घंटे के अंतराल पर 500 से 1000 एमजी की मात्रा में इस दवाई को लेने की अनुमति है। साथ ही 24 घंटे में 4000 एम जी से अधिक मात्रा में इस दवाई को लेने से मना किया जाता है।

बच्चों के लिए पेरासिटामोल लिक्विड फॉर्म में आता है। बच्चों के लिए डोज़ उसके वजन के हिसाब से तय किया जाता है। 1 से 12 साल तक के बच्चों में प्रति किलो के हिसाब से 15 एमजी पेरासिटामोल दिया जा सकता है। यह मात्रा 4 से 6 घंटों के लिए है। ध्यान दें कि 24 घंटे में किसी बच्चे को 4 बार से अधिक इस दवाई को ना दिया जाए।

नोट – यहां बताई गई बातें केवल जानकारी के उद्देश्य से हैं। अपनी मर्जी से इस दवाई का उपयोग ना करें। ऐसा करने से आपको गंभीर परेशानी हो सकती है। दवाई का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से अवश्य संपर्क करें तथा डॉक्टर के बताए डोज़ के अनुसार इस दवाई का सेवन करें।

धन्यवाद

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *