• Thu. Aug 18th, 2022

फिजियोथेरेपी कोर्स क्या है – what is physiotherapy course in hindi

मेडिकल फील्ड में कई कोर्स हैं। जिसकी पढ़ाई करने के बाद आप मरीज को देखते हैं और उनका इलाज करते हैं। आमतौर से लोग MBBS को ही प्राथमिकता देते हैं। लेकिन MBBS के अलावा भी एक कोर्स है। इसे करने के बाद भी आप एक डॉक्टर ही बनते हैं। इसके बाद आप मरीज का इलाज भी कर सकते हैं। हालांकि इसमें Treatment का तरीका अलग होता है।

Physiotherapy course details in hindi

हम Physiotherapy course ( फिजियोथेरेपी कोर्स ) की बात कर रहे हैं। Physiotherapy course करने के बाद आप एक डॉक्टर बनते हैं। इसके बाद आप physiotherapy Techniques की मदद से मरीज का Treatment बिना दवाई के ही करते हैं। इस लेख में हम आपको Physiotherapy course के बारे में ही विस्तार से बताएंगे।

● फिजियोथेरेपी कोर्स क्या है? What is physiotherapy course

फिजियोथेरेपी का नाम सुनते ही सबसे पहले जो सवाल दिल में आता है, वह यह होता है कि physiotherapy kya hai. फिजियोथेरेपी क्या है (physiotherapy meaning), इसका सबसे सीधा जवाब यह है कि यह एक तरीका है। जिसकी मदद से विभिन्न बीमारियों का इलाज (Treatment) किया जाता है। इलाज में किसी तरह की दवाओं का उपयोग नही किया जाता है। इलाज में केवल तकनीक तथा कुछ महीनों का उपयोग किया जाता है।

● फिजियोथेरेपी का हिंदी मतलब ( what is physiotherapy in hindi ) (Physiotherapy meaning in Hindi)

Physiotherapy को हिंदी में भौतिक चिकित्सा के नाम से भी जाना जाता है। इसे शारिरिक चिकित्सा के नाम से भी जाना जाता है। फिजियोथेरेपी को Physical Therapy के नाम से भी जाना जाता है। Physiotherapy को ही संक्षेप में PT यानी Physical Treatment कहा जाता है।

जिस तरह इलाज करने से पहले MBBS की पढ़ाई करना ज़रूरी होता है। इसी तरह फिजियोथेरेपी की मदद से इलाज करने से पहले Bachelor of Physiotherapy (बैचलर ऑफ फिजियोथेरेपी) की पढ़ाई पूरी करनी होती है। इसकी पढ़ाई करने के बाद ही कोई व्यक्ति किसी व्यक्ति का इलाज कर सकता है। BPT की पढ़ाई में इलाज के लिए ही बहुत सारे तकनीक सिखाए जाते हैं। अब बात करते हैं कि कौन व्यक्ति फिजियोथेरेपी की पढ़ाई कर सकता है।

● फिजियोथेरेपी की पढ़ाई कौन कर सकता है – Physiotherapy course eligibility in Hindi

अगर आपने जीव विज्ञान यानी बायोलॉजी के साथ अपनी 12वीं की पढ़ाई पूरी की है, तो आप BPT Cource यानी Bachelor of Physiotherapy की पढ़ाई कर सकते हैं। एक शर्त है कि आपने 12वीं की पढ़ाई किसी मान्यताप्राप्त संस्था से ही पूरी की है। फिजियोथेरेपी कोर्स की व्यवस्था सरकारी कॉलेजों के अलावा निजी कॉलेजों में भी है। आप अपनी सुविधा अनुसार कहीं से भी फिजियो कोर्स कर सकते हैं।

● फिजियोथेरेपी कोर्स में एडमिश्म कैसे लें – Admission in Physiotherapy – physiotherapy college admission

फिजियोथेरेपी के लिए आप NEET के द्वारा भी एडमिशन ले सकते हैं। NEET में निर्धारित किया गया है कि इतने अंक आने पर आपकी फिजियोथेरेपी कोर्स में एडमिशन मिल जाएगा। अगर आप NEET नही दे पाए हैं, फिर भी BPT करना चाहते हैं, तो उसकी भी व्यवस्था फिलहाल है। कई निजी कॉलेजों में कॉलेज द्वारा एंट्रेंस एग्जाम की व्यवस्था की जाती है। उसके द्वारा आप कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं। आपको बता दें की देश के लगभग सभी राज्यों में निजी और सरकारी कॉलेज हैं, जहां से आप BPT की पढ़ाई कर सकते हैं। आने वाले वर्षों में संभव है कि BPT में भी एडमिशन केवल NEET के ही द्वारा होगा।

● फिजियोथेरेपी कोर्स कितने साल का होता है – Physiotherapy course duration in Hindi

फिजियोथेरेपी में आप डिप्लोमा तथा डिग्री कोर्स कर सकते हैं। डिप्लोमा कोर्स का चलन अब काफी हम है। इसके अलावा डिप्लोमा का वैल्यू भी अधिक नही है। इस लिए यहां हम डिग्री कोर्स (BPT) की बात करते हैं।

एक आम सवाल यह भी आता है कि फिजियो की पढ़ाई (Physio Cource) में कितना समय लगता है। अगर आप फिजियोथेरेपी में डिग्री चाहते हैं तो, आपको बता दें कि, जैसा कि ऊपर बताया है कि BPT भी एक MBBS की ही तरह कोर्स है। इस कारण BPT (Physiotherapy) में भी 4 वर्ष का समय लगता है। कोर्स के बाद आपको 6 महीने का इंटर्नशिप भी करना पड़ता है। इंटर्नशिप को लेकर अलग – अलग कॉलेजों की अलग – अलग नीति होती है।

● फिजियोथेरेपी कोर्स में क्या पढ़ाया जाता है – Physiotherapy course subjects

अगर आप डिग्री कोर्स यानी Bachelor of Physiotherapy (BPT) करते हैं तो आपको कई अलग – अलग विषयों की पढ़ाई करनी होती है। इसके पहले 2 साल में आपको लगभग उन्ही विषयों को पढ़ना होता है, जो कि MBBS कोर्स में पढ़ाई जाती है। बाद के 2 वर्षों में विभिन्न फिजियोथेरेपी तकनीक के बारे में पढ़ाया जाता है। जिसकी मदद से आप इलाज कर सकते हैं।

● फीजियोथेरेपी में पढ़ाई जाने वाले विषय यानी भौतिक चिकित्सा पाठ्यक्रम हिंदी में विवरण निम्नलिखित हैं – (Physiothedapy Book or Physiotherapy course subjects)

एनाटोमी (Anantomy)

फिजियोलॉजी (Physiology)

फार्मेकोलॉजी (Pharmacology)

ऑर्थोपेडिक (Orthopaedics)

बायोकेमिस्ट्री (Bio-Chemistry)

मेडिसिन (Medicine)

ऑस्टियोलॉजी (Osteology)

जनरल सर्जरी (General Surgery)

पैथोलॉजी (Pathology)

माइक्रोबायोलॉजी (Micro Biology)

पीडियाट्रिक (Paediatrics)

गाइनिकॉलजी ( Gynecology)

साइकोलॉजी और सोशियोलॉजी (Psychology &Sociology)

एलेक्ट्रोथेरेपी (Electrotherapy)

एक्सरसाइजथेरेपी (Exercisetherapy)

बायोमैकेनिक्स (Biomechanics)

फिजियोथेरेपी इन ऑर्थोपेडिक (Physiotherapy in Orthopaedics)
•फिजियोथेरेपी इन न्यूरोलॉजी (Physiotherapy in Neurology)

स्पोर्ट्स फिजियोथेरेपी (Sports Physiotherapy)
-न्यूरोलॉजी इन्क्लूडिंग साइकेट्री

Obstetrics

ये सभी सब्जेक्ट्स आपको अपने फिजियोथेरेपी कोर्स के दौरान पूरे 4 वर्षों में पढ़ना पड़ता है। ऐसा नही है कि ये सभी एक ही ही साथ पढ़ने होते हैं। अगर आपका कोर्स सेमस्टर वाइस है तो प्रत्येक सेमेस्टर में आपको लगभग 4 – 5 या अधिकतम 6 सब्जेक्सट पढ़ने होते हैं।

इसी तरह सेमेस्टर के साथ सब्जेक्सट भी बदलते हैं। इसी तरह अगर आपके कॉलेज में सेमस्टर की जगह सालाना एक्साम होता है, तो फिर उसी के हिसाब से विषय रखा जाता है। इन सब्जेक्सट के अलावा आपको विभिन्न सेमिनार में भाग लेना होता है, इसके अलावा आपको विभिन्न प्रोजेक्ट भी पूरे करने होते हैं।

● पढ़ाई पूरी करने के बाद क्या कर सकते हैं – Benefits of physiotherapy course in Hindi

BPT यानी फिजियोथेरेपी की पढ़ाई पूरी करने के बाद आप किसी अस्पताल में बतौर फिजियोथेरेपिस्ट काम कर सकते हैं। यहां आपको विभिन्न बीमारियों से जूझ रहे लोगों का इलाज फिजियो तकनीक के द्वारा करना होगा। इसके अलावा आप चाहें तो आप अपनी खुद की Physiotherapy Center भी खोल सकते हैं। Physiotherapist Job के मौके सरकारी अस्पतालों में रेलवे में तथा सेना में भी आते हैं। आप वहां भी बतौर फिजियोथेरेपिस्ट नौकरी कर सकते हैं।

इसके अलावा आप Physiotherapy Rehabilitation Center भी चला सकते हैं। वर्तमान में Rehab सेंटर की डिमांड काफी ज़्यादा है। फिजियोथेरेपिस्ट के लिए देश के बाहर भी काफी नौकरी के मौके हैं।

अगर आपने BPT यानी Bachelor of Physiotherapy की पढ़ाई (डिग्री) पूरी करली है। और आगे भी पढ़ाई करने चाहते हैं, तो फिजियोथेरेपी में मास्टर डिग्री (MPT) भी कर सकते हैं। इसके अलावा आप आगे Ph. D तक कर सकते है।

● फिजियोथेरेपी की पढ़ाई में कितना खर्च आता है – Physiotherapy Course fees

फिजियोथेरेपी की पढ़ाई में आने वाला खर्च मुख्य रूप से कॉलेज पर निर्भर करता है। आप बिहार से कहीं करते हैं तो आपको 3 से 5 लाख तक फिजियोथेरेपी कोर्स फीस के रूप में लगते हैं। इसी तरह कहीं और जगह से करते हैं तो यह 5 से 10 लाख के बीच खर्च आ सकता है। वहीं, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड जैसे जगहों से सिर्फ BPT करना चाहते हैं तो आपको लगभग 25 से 35 लाख तक लग सकते हैं।

इस लेख में हमने आपको Whats is Physiotherapy यानी Physiotherapy kya hai (फिजियोथेरेपी क्या है). Fijiotherepi kya hai ya fijiotherapy kya hai,(Physiotherapy Course Details in Hindi) की पूरी जानकारी देने की कोशिश की है। अगर आप कुछ और जानकारी चाहते हैं, तो नीचे कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।

ये भी जानें –

धन्यवाद

Share and Enjoy !

Shares

Related Post

2 thoughts on “Physiotherapy kya hai – what is physiotherapy Course in hindi , फिजियोथेरेपी कोर्स की पूरी जानकारी”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *