• Sat. Jun 19th, 2021

पिछले कुछ वर्षों में ऐसे मामलों में बढ़ोतरी देखी गई है जहां सुबह उठते पर एड़ी में दर्द होता है। सुबह एड़ी में दर्द इतना तेज होता है कि दो कदम भी चलना मुश्किल हो जाता है। हालांकि यह दर्द ऐसा होता है कि जब आप सोए रहेंगे या बैठे रहेंगे तो दर्द का एहसास नहीं होगा। लेकिन जैसे ही पैर जमीन पर पड़ता है, एड़ी में दर्द शुरू हो जाता है। यह दर्द काफी ज्यादा तेज़ होता है तथा एड़ी में जोरदार चुभन होती है।

अक्सर लोगों को यह मालूम नहीं होता है कि सुबह में एड़ी दर्द का कारण क्या होता है या पैर की एड़ी में दर्द क्यों होता है। तो आपको बता दें कि यह जो सुबह में एड़ी में दर्द होता है, वह प्लांटर फैसीआइटिस (Planter Fasciitis) नाम की एक बीमारी के कारण होता है।

चलिए इस आर्टिकल में हम आपको इसी प्लांटर फैसीआइटिस बीमारी (Planter Fasciitis) के बारे में विस्तार से बताएंगे। इसके अलावा हम आपको एड़ी में दर्द के लिए घर उपचार तथा फिजियो थेरेपी के द्वारा इसका इलाज (plantar fasciitis physiotherapy exercises) भी बताएंगे।

प्लांटर फैसीआइटिस क्या है – Planter Fasciitis in Hindi

प्लांटर फैसीआइटिस एड़ी में दर्द होने का सबसे सामान्य कारण है। यह बीमारी पैर की उंगलियों को एड़ी की हड्डियों से जोड़ने वाले ऊतकों (Thick Band of Tissue) में इंफ्लामेशन होने की वजह से होता है।

यह विशेष ऊतक पैर के बिल्कुल नीचे से गुजरते हुए एड़ी की हड्डियों तथा पैर की उंगलियों को आपस में जोड़ता है। जब इसी बैंड में सूजन आ जाता है तो सुबह उठने पर एड़ी में दर्द होता है।

सुबह एड़ी में दर्द खासकर तब होता है जब उठने के बाद जैसे ही आप पहला कदम जमीन पर रखते हैं। लेकिन जैसे-जैसे आप कुछ कदम चल लेते हैं, दर्द भी कम होने लगता है।

आमतौर से सुबह उठने के बाद 10 मिनट से लेकर आधे घंटे तक पैदल चलने के बाद दर्द काफी कम हो जाता है जा कुछ लोगों में एड़ी का दर्द खत्म भी हो जाता है। हालांकि जैसे ही आप फिर अगली सुबह उठेंगे, फिर आपको इस समस्या से दो-चार होना पड़ सकता है।

इसके अलावा आमतौर से जब आप लगातार कुछ देर बैठने के बाद फिर चलेंगे तो आपको फिर से एड़ी में दर्द हो सकता है। इसके अलावा एक लगातार कहीं खड़े रहने पर भी दर्द शुरू हो सकता है।

Planter Fasciitis आमतौर से अधिक भागदौड़ करने वाले लोगों में देखा जाता है। या ऐसा खेल जिसमें काफी ज्यादा दौड़ना पड़ता हो वैसे लोग भी इस बीमारी के शिकार हो सकते हैं। इसके अलावा जिनका वजन काफी ज्यादा है या सामान्य से अधिक है उन्हें भी यह बीमारी हो सकती है। तथा उन्हें एड़ी में दर्द या सुबह में एड़ी में दर्द हो सकता है।

Planter Fasciitis ka Hindi – प्लांटर फैसीआइटिस का हिंदी

plantar fasciitis hindi meaning – Planter Fasciitis ka Hindi या hindi word for plantar fasciitis अभिपादतल आकुंचन होता है। Planter Fasciitis in Hindi सर्च करने पर इसका हिंदी कई जगह पदतल फस्कीतिस भी बताता है। लेकिन आपको बता दें कि पदतल फस्कीतिस शब्द प्लांटर फैसीआइटिस के लिए सटीक हिंदी शब्द नहीं है। बल्कि प्लांटर फैसीआइटिस का हिंदी अभिपादतल आकुंचन ही होता है

अब आपको पता चल चुका है कि Planter Fasciitis kya hai तथा Planter Fasciitis ka hindi kya hota hai. तो चलिए अब जानते हैं कि प्लांटर फ़ासीआइटिस का लक्षण, कारण तथा Planter Fasciitis Treatment क्या है।

प्लांटर फैसीआइटिस के लक्षण – plantar fasciitis symptoms in hindi

पदतल फस्कीतिस लक्षण यानी planter Fasciitis ka Lakshan की बात करें तो आमतौर से इसके लक्षण में बहुत ज्यादा कुछ देखने को नहीं मिलता है। जब तक आप सोए रहेंगे सब कुछ सामान्य रहेगा। लेकिन सुबह उठने पर जैसे ही आप पहले दो चार कदम चलेंगे, आप की एड़ी में बहुत तेज दर्द होगा। यह जैसे-जैसे आप चलते जाएंगे कुछ मिनट चलने के बाद एड़ी का दर्द काफी कम हो जाता है कुछ लोगों में दर्द लगभग आधे घंटे बाद खत्म भी हो जाता है।

प्लांटर फैसीआइटिस के अन्य लक्षण यह भी है कि जब आप कुछ देर तक एक जगह खड़े रहते हैं तब भी आप की एड़ी में दर्द शुरू हो जाता है। इसके अलावा कुछ देर तक बैठे रहने के बाद जैसे ही आप चलने के लिए पैर जमीन पर रखेंगे एक फिर से एड़ी में दर्द शुरू हो जाएगा।

प्लांटर फैसीआइटिस के कारण – Planter Fasciitis Cause in Hindi

Planter Fascia का काम यह होता है कि यह Arc of foot को सपोर्ट देता है। तथा जब आप चलते हैं तो यह शरीर का पूरा Shock Absorb करता है। जब कभी इस Planter Fascia पर अधिक तनाव पड़ता है यह खींच जाता है। आगे चल कर इसमें Inflammation हो जाता है जो कि Planter Fasciitis का कारण बनता है।

हालांकि इसके बारे में एक और रोचक बात यह है कि कभी-कभी प्लांटर फैसीआइटिस बिना किसी अन्य कारण के भी हो सकता है।

प्लांटर फ़ासीआइटिस होने का खतरा किसे अधिक है – Planter Fasciitis rick factor in Hindi

plantar fasciitis किसी भी उम्र के लोगों को हो सकता है। लेकिन आमतौर से प्लांटर फैसीआइटिस 40 से 60 वर्षों के बीच के लोगों में अधिक देखने को मिलता है।

इसके अलावा वैसे लोग जो कुछ ऐसा काम करते हैं जिसमें एड़ी पर लगातार बहुत ज्यादा जोर पड़ता है। तो उन्हें भी यह बीमारी होने का खतरा अधिक रहता है। खासतौर से डांसिंग, रनिंग इत्यादि से जुड़े लोगों को यह होने का खतरा अधिक रहता है। इसके अलावा मोटे लोगों में भी यह आमतौर से देखने को मिलता है। इसके अलावा जिनके चलने का तरीका असामान्य होता है, उन्हें भी यह समस्या हो सकती है।

प्लांटर फैसीआइटिस के लिए जांच – Planter Fasciitis Diagnosis in Hindi

आमतौर से मरीज के द्वारा बताए गए लक्षणों के आधार पर ही प्लांटर फैसीआइटिस की पहचान कर ली जाती है। लेकिन कई बार इसे कंफर्म या दूसरे संभावित कारणों का पता लगाने किए लिए कुछ डॉक्टर मरीज को जांच के लिए भेज सकते हैं।

ऐसे में मरीज़ को आमतौर से एक्स रे करवाना पड़ सकता है। इसके अलावा और गहराई से जांच के लिए कुछ डॉक्टर एम आर आई भी करवा सकते हैं। m.r.i. आमतौर से तब कराया जाता है जब स्ट्रेस फ्रैक्चर के कारण दर्द होने का शक होता है।

● प्लांटर फ़ासीआइटिस का इलाज – Planter Fasciitis Treatment in Hindi

Plantar fasciitis ka ilaaj या Planter Fasciitis Treatment कई तरीके से किया जा सकता है। लेकिन इसका जो सबसे बेहतरीन इलाज है वह फिजियोथेरेपी (Physiotherapy for Planter Fasciitis) ही है। जब आप किसी फिजियोथेरेपिस्ट के पास जाएंगे तो कुछ ही दिनों की इलाज के बाद प्लांटर फैसीआइटिस बीमारी से छुटकारा मिल सकता है।

इसका फिजियो थेरेपी में कई तरह के एक्सरसाइज मौजूद है जिसकी मदद से इलाज किया जाता है तथा मरीज को काफी फायदा पहुंचता है।

एडी के दर्द के लिए एक्सरसाइज – plantar fasciitis exercises in hindi

plantar fasciitis physiotherapy management में एड़ी दर्द के लिए एक्सरसाइज निम्नलिखित हैं –

Strength Training for Planter Fasciitis in Hindi – Plantar fasciitis physiotherapy management में Strength training काफी महत्वपूर्ण होता है। इसके इलाज के तहत मरीज़ को High Load Strenght Training दिया जाता है।

Stretching Exercise for Planter Fasciitis in Hindi

plantar fasciitis physio stretches में जिस पैर की एड़ी में दर्द होता है उस पैर में स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज देने पर मरीज को काफी ज्यादा फायदा मिलता है

plantar fasciitis physio stretches में स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज करने का तरीका यह है कि एक हाँथ से एड़ी को पकड़े तथा दूसरे हाँथ से पैर की उंगलियों को ऊपर की तरफ मोड़े। ऐसा नियमित रूप से करने से आराम मिलता है। जब आप ये किसी एक्सपर्ट फिजियोथेरेपिस्ट से करवाएंगे तो आपको जल्दी फायदा होगा। इसके बाद आप ये plantar fasciitis physiotherapy treatment आसानी से सीख भी सकते हैं।

Planter Fascia Exercise – प्लांतर फेसाइटिस के इलाज पर यह काफी कारगर साबित होता है। एडी के दर्द के लिए एक्सरसाइज करने का तरीका यह है कि पैर के नीचे एक बोतल में बर्फ जमा कर रख लें तथा उसे हम अपने पैर से ही आगे पीछे करें। यानी कि बोतल पर पैर को रोल करते रहें। इससे प्रभावित हुए fascia का इन्फ्लेमेशन कम होता है।

Mobilization and Manipulation

मोबिलाइजेशन तथा मैनिपुलेशन तकनीक के द्वारा भी मरीज को काफी आराम मिलती है। इस तकनीक का उपयोग खासकर दर्द कम करने के लिए किया जाता है।

Ultrasound and icing

मैन्युअल थेरेपी के अलावा एक फिजियोथैरेपिस्ट अल्ट्रासाउंड मशीन का उपयोग करते हुए भी इलाज करते हैं। अल्ट्रासाउंड मशीन के उपयोग से भी राहत मिलती है। इसके अलावा इसके इलाज में आइसिंग भी की जाती है। आइसिंग से भी काफी फायदा मिलता है। एक बार सीख कर ये आइसिंग आप खुद भी कर सकते हैं।

इन सबके अलावा अगर समस्या ज्यादा है तो विशेष प्रकार के जूते दिए जाते हैं जिसे कुछ दिनों तक पहनना होता है। इसे पहनने से दर्द से आराम मिलती है। इसके अलावा टेपिंग भी फायदेमंद साबित होता है।

इसके इलाज में एक फिजियोथेरेपिस्ट के साथ-साथ मरीज की भी भागीदारी होती है जो एक्सरसाइज फिजियोथैरेपिस्ट सिखाते हैं। उसे मरीज को खुद भी कुछ हद तक दोहराना होता है। या मरीज के करने लायक कुछ एक्सरसाइज फिजियोथेरेपिस्ट बता देता है। इसे खुद से करने से कुछ आराम मिलता है तथा रिकवरी तेज़ी से होती है।

सुबह में एड़ी दर्द के लिए घर उपचार – Plantar fasciitis home remedies in hindi

सुबह में एड़ी दर्द के लिए घरेलू इलाज यह है कि जो एक्सरसाइज फिजियोथैरेपिस्ट में आपको सिखाया है उसे घर पर दोहराते रहें।

इसके अलावा कभी अपना वजन ज्यादा न बढ़ने दें। हमेशा वजन को नियंत्रित करने की कोशिश करें। क्योंकि ज्यादा वजन बढ़ने से दर्द और बढ़ सकता है। हमेशा सही जूते का चयन करें। गलत तरीके के जूते पहनने से भी ऐसे दर्द होते हैं। अगर आप किसी ऐसे खेल में शामिल है जहां अधिक भागदौड़ करनी होती है तो कुछ समय के लिए उस खेल से ब्रेक ले लें या खेल बदल दें।

घरेलू इलाज के तौर पर आप बर्फ का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। जिस हिस्से में दर्द हो रहा है वहां रोजाना 15 से 20 मिनट तक बर्फ लगाएं। इससे कुछ हद तक राहत मिलेगी। इसके अलावा Planter Fascia के लिए plantar fasciitis self physio के तहत स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज कर सकते हैं।

जब आप यह सब करेंगे तो निश्चित ही आपको आराम मिलेगा।

धन्यवाद

Share and Enjoy !

0Shares
0
2 thoughts on “Plantar Fasciitis Physiotherapy treatment – सुबह उठने पर एड़ी में दर्द का इलाज – plantar fasciitis in hindi”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *