• Sun. Oct 2nd, 2022

रोबोटिक रेडिकल प्रॉस्टेटेक्टोमी एक प्रकार की सर्जरी है, जो की पुरुषों में प्रोस्टेट कैंसर होने की स्तिथि में प्रोस्टेट ग्लैंड को हटाने के लिए किया जाता है। सामान्य रुप से प्रॉस्टेटेक्टोमी ऑपरेशन पेट के निचले हिस्से में एक चीरा लगा कर किया जाता है। पिछले 20 सालों में हुए तकनीकी सुधार के बाद प्रॉस्टेटेक्टोमी सर्जरी के द्वारा प्रोस्टेट कैंसर को ठीक करने की क्षमता में काफी सुधार हुआ है। इसके अलावा ऑपरेशन के समय होने वाले संभावित खतरों जैसे खून का बहना, यूरिनरी इंकॉन्टिनेंस (मूत्राशय पर से नियंत्रण खत्म हो जाना) तथा इरेक्टाइल डिसफंक्शन में भी काफी अधिक कमी आई है।

तकनीक में काफी सुधार तथा नई तकनीक के आने के बाद मामूली चीरे के द्वारा ऑपरेशन करने के लिए रोबोटिक रेडिकल प्रॉस्टेटेक्टोमी तकनीक विकसित हुई है। रोबोटिक रेडिकल प्रॉस्टेटेक्टोमी को रोबोटिक सर्जरी या द विंकि प्रॉस्टेटेक्टोमी भी कहा जाता है। वर्तमान समय में केवल अंगों तक ही सीमित रहने वाले प्रोस्टेट कैंसर की स्तिथि में प्रोस्टेट ग्लैंड को हटाने के लिए बड़े पैमाने पर रोबोटिक रेडिकल प्रॉस्टेटेक्टोमी का उपयोग किया जाता है।

● रोबोटिक रेडिकल प्रॉस्टेटेक्टोमी क्यों किया जाता है?

इस सर्जरी का मुख्य उद्देश्य प्रोस्टेट कैंसर को शरीर से पूरी तरह हटाना है। अगर कैंसर प्रोस्टेट के बाहर नही फैला है, तो रेडिकल प्रॉस्टेटेक्टोमी का उपयोग बड़े पैमाने पर किया जाता है। अगर प्रोस्टेट कैंसर एडवांस स्टेज में भी पहुंच चुका है, तो भी कुछ अन्य इलाज के साथ इस सर्जरी के द्वारा प्रोस्टेट को हटाने के बाद इस बीमारी के जड़ से खत्म होने की संभावना या बीमारी से आराम मिलने की अधिक संभावना बनी रहती है।

रोबोटिक रेडिकल प्रॉस्टेटेक्टोमी के फायदे – Benefits of Robotic Radical Prostatectomy

रोबोटिक रेडिकल प्रॉस्टेटेक्टोमी की उपलब्धता से डॉक्टर केवल हल्के चीरे के द्वारा ही बेहतर तरीके से सफल ऑपरेशन कर पाने में अफल होते हैं। इसके अलावा इसके फायदे निम्नलिखित हैं :

• काफी कम चीरा लगाया जाता है।
• इस प्रक्रिया में मरीज़ को दर्द भी काफी कम ही होता है।
• अन्य समस्याओं के होने का खतरा काफी कम रहता है।
• पेशाब के लिए लगा कैथेटर भी जल्दी हटा दिया जाता है।
• अपने सामान्य दैनिक जीवन में जल्दी ही वापस आ जाते हैं।

• अस्पताल में काफी कम समय के लिए रुकना पड़ता है तथा प्रक्रिया के बाद मरीज़ काफी तेज़ी से ठीक होता है।

प्रॉस्टेटेक्टोमी के अन्य विकल्प – Other Treatment Of Prostatectomy

• प्रोस्टेट कैंसर का इलाज रोबोटिक रेडिकल प्रॉस्टेटेक्टोमी प्रक्रिया द्वारा करने से पहले डॉक्टर इस बीमारी के इलाज के लिए उपलब्ध अन्य विकल्पों के बारे में मरीज़ से बात करते हैं। इसके बाद ही इलाज शुरू किया जाता है। इसके इलाज के कुछ अन्य विकल्प निम्नलिखित हैं :

• ओपन रेडिकल प्रॉस्टेटेक्टोमी
• एक्सटर्नल बीम रेडियोथेरेपी
• हॉर्मोन थेरैपी
• ब्रैकिथेरेपी

● ऑपरेशन से पहले की तैयारियां

• अगर मरीज़ खून पतला करने वाले दवाओं का सेवन कर रहा है तो यह ऑपरेशन से कम से कम 7 दिन पहले ही लेना बंद कर दें।

• आहार केवल डॉक्टर द्वारा बताए अनुसार लें।

• शराब, सिगरेट या तंबाकू खाने की आदत है, तो इसे बिल्कुल बंद कर दें।

रोबोटिक रेडिकल प्रॉस्टेटेक्टोमी की प्रक्रिया में काफी कम चीरा लगाया जाता है, फिर भी संभव है की कुछ दर्द हो सकता है। ऐसी स्तिथि में को आवश्यकता अनुसार दर्द निवारक दवाएं दी जाती हैं। ऑपरेशन की प्रक्रिया से पहले अगर मरीज़ को उल्टी होने जैसा महसूस हो या किसी प्रकार का दर्द हो तो तुरंत डॉक्टर या उपलब्ध नर्सिंग स्टाफ को इस बारे में सूचित करें। इस स्तिथि में इसे नियंत्रित करने के लिए आवश्यकता अनुसार दवाएं दी जाएंगी।

● ऑपरेशन के दौरान की प्रक्रिया – robotic radical prostatectomy step by step

रोबोटिक प्रॉस्टेटेक्टोमी की प्रक्रिया के दौरान ऑपरेशन के लिए उपयोग होने वाले उपकरण डॉक्टर (सर्जन) द्वारा नियंत्रित किए जाते हैं। इसके अलावा ऑपरेशन के दौरान डॉक्टर की मदद करने के लिए सहायक सर्जन भी होते हैं। रोबोटिक प्रॉस्टेटेक्टोमी की मदद से डॉक्टर शरीर पर बनाए गए 6 छोटे – छोटे छिद्रों में से किसी एक द्वारा टेलिस्कोप को अंदर डालते हैं। यह टेलिस्कोप अंदर प्रोस्टेट के आसपास मौजूद सभी नसों एंव मांसपेशियों की बिल्कुल साफ 3 डी तस्वीरें उपलब्ध करवाता है।

इससे अन्य अंगों को नुकसान हुए बिना ही प्रोस्टेट ग्लैंड को सफलतापूर्वक हटाना संभव हो पाता है। ऑपरेशन के लिए उपयोग होने वाले इस उपकरण में 3 बाहें बनी होती है जो की काफी बेहतर तरीके से ऑपरेशन के लिए ज़रूरी यंत्रों को पकड़े रखने की क्षमता रखता है। इससे डॉक्टर को सहजता से ऑपरेशन करने में मदद मिलती है।

रोबोटिक मशीन की बांहों में इसके आकार के कारण इंसानी हांथो के मुकाबले अधिक घुमाव होता है। इस कारण डॉक्टर इसकी मदद से शरीर के अंदर छोटे से छोटे जगह पर भी ऑपरेशन करने की सुविधा देता है। ऑपरेशन के दौरान कैंसर ग्रसित प्रोस्टेट ग्लैंड को मूत्र मार्ग (यूरेथ्रा) तथा मूत्राशय (ब्लैडर) अलग कर दिया जाता है तथा मरीज़ के शरीर के भीतर हाथ डाले बिना ही मूत्र मार्ग तथा मूत्राशय को एक साथ सिल दिया जाता है।

इसके बाद अलग किए गए प्रोस्टेट ग्लैंड को पेट के निचले हिस्से में ग्लैंड के आकार के अनुसार बनाए गए छोटे से चीरे के द्वारा शरीर से बाहर निकाल दिया जाता है। प्रक्रिया के दौरान शरीर में लगाए गए चीरों को इसके बाद शरीर में ही मिल जाने वाले धागे की मदद से टांका लगा दिया जाता है।

● ऑपरेशन के बाद क्या होता है? – After Robotic Radical Prostatectomy Surgery

ऑपरेशन के तुरंत बाद आप निम्नलिखित लक्षण महसूस कर सकते हैं :

• दर्द
• मतली
• कब्ज़

ये सभी लक्षण जल्दी ही डॉक्टर द्वारा दिए गए दवाओं से ठीक हो जाता है।

● ऑपरेशन से जुड़े ख़तरे – Robotic Radical Prostatectomy Risk Factor

इस ऑपरेशन से जुड़े दो काफी सामान्य ख़तरे हैं :

• पेशाब रिसने की समस्या आ सकती है।
• इरेक्टाइल डिसफंक्शन हो सकता है।

ये दोनो ही लक्षण कुछ समय बाद दवाओं तथा अन्य इलाज के बाद ठीक हो जाते हैं। अगर प्रोस्टेट कैंसर का ऑपरेशन रोबोटिक प्रॉस्टेटेक्टोमी के द्वारा किया गया है तो ये लक्षण अन्य ऑपरेशन की तुलना में कम समय के लिए तथा कम गंभीर होते हैं।

● कुछ अन्य असामान्य तथा कभी – कभी होने वाली समस्याएं निम्नलिखित है :

• खून आना
• संक्रमण
• लिम्फोसेले
• अंडकोश (स्क्रोटम) में सूजन आ जाना

ये समस्याएं शायद ही कभी होते हैं, इसके होने की संभावना 5 प्रतिशत से भी कम होता है।

● किस स्तिथि में डॉक्टर से संपर्क करें ?

ऑपरेशन के बाद अगर आप निम्नलिखित चीज़े पाते हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें :

• 100 फारेनहाइट से अधिक बुखार
• काफी तेज़ दर्द जो की दवाओं द्वारा ठीक न हो रहा हो
• पेशाब में खून या कुछ जमाव की स्तिथि में
• सांस लेने में दिक्कत होने पर
• त्वचा पर लाल – लाल चकत्ता होने पर
• मतली तथा उल्टी होने पर
• डायरिया होने पर

धन्यवाद

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *